News Update !

सम्पत्ति कर, समस्या निराकरण व जमा शिविर का आयोजन मंगलवार 20 मार्च को ‘चेम्बर भवन’ में महापौर, श्री विवेकनारायण शेजवलकर जी रहेंगे विशेष रूप से उपस्थि शहर के व्यवसाईयों, उद्योगपतियों सहित आमनागरिकों की सुविधा हेतु सम्पत्ति कर शिविर का आयोजन मंगलवार, दिनांक 20 मार्च,18 को सुबह 11.00 से 02.00 बजे तक ‘चेम्बर भवन’ में महापौर-माननीय श्री विवेकनारायण शेजवलकर जी की विशेष उपस्थिति में आयोजित किया जाएगा । इस शिविर में शहर के सभी 66 वॉर्डों में मौजूद सम्पत्तियों का, सम्पत्ति कर से संबंधित समस्याओं का नियमानुसार उचित निराकरण किया जाएगा और सम्पत्ति कर की राशि जमा भी की जाएगी । यदि किसी सम्पत्तिकरदाता की सम्पत्ति कर को लेकर यदि कोई आपत्ति है, तो वह अपनी आपत्ति का आवेदन दो प्रतियों में मय साक्ष्यों सहित शिविर में लाएँ, ताकि उनकी समस्या का उपिस्थित अधिकारियों द्वारा उचित समाधान किया जा सके ।

विवाह पार्क के लिए न्यूनतम भूखण्ड/भूमि क्षेत्र हेतु दस हजार वर्गमीटर का प्रावधान अव्यवहारिक : चेम्बर ऑफ कॉमर्स म.प्र. भूमि विकास नियम-2013 के नियम-53 में संशोधन किए जाने चेम्बर ने मुख्यमंत्री एवं नगरीय विकास एवं आवास मंत्री को लिखे पत्र म.प्र. भूमि विकास नियम-2012 के नियम 53 में विवाह पार्क (मैरिज गार्डन) हेतु 5 लाख से अधिक जनसंख्या वाले निवेश क्षेत्र में विवाह पार्क के लिए न्यूनतम भूखण्ड/भूमि क्षेत्र 10,000 वर्ग मीटर (अर्थात् 1,07,639वर्गफुट) का प्रावधान किया गया है| इस अव्यवहारिक प्रावधान में संशोधन किए जाने हेतु म.प्र. चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्री द्बारा प्रदेश के मुख्यमंत्री-श्री शिवराज सिंह चौहान एवं नगरीय विकास एवं आवास मंत्री-श्रीमती मायासिंह को पत्र प्रेषित किये गये हैं म.प्र. भूमि विकास नियम-2012के नियम 53 में विवाह पार्क (मैरिज गार्डन) में यह प्रावधान किया गया है कि 5 लाख से अधिक जनसंख्या वाले निवेश क्षेत्र में विवाह पार्क के लिए न्यूनतम भूखण्ड/भूमि क्षेत्र 10,000 वर्गमीटर (यानि 1,07,639 वर्गफुट) होना चाहिए यह नियम पूर्णत: अव्यवहारिक है और इस नियम के तहत सम्पूर्ण मध्यप्रदेश में मात्र 5-10 मैरिज गार्डन ही ऐसे होंगे, जो इस मानक को पूर्ण करते हों उक्त नियम का हवाला देते हुए नगर निगम ग्वालियर द्बारा शहर के विवाह स्थलों को नोटिस जारी किये गये हैं और इस मानक को पूर्ण करने के लिए बाध्य किया जा रहा है एवं अन्यथा मैरिज गार्डन को सील्ड करने की बात कही जा रही है यदि ऐसा किया जाता है तो शादियां पहले की तरह सड़कों पर होंगी और टेंट आदि की सारी व्यवस्थायें लोगों को मजबूर होकर सड़कों पर ही करना पड़ेगी, जिससे शादियों के सीजन में यातायात की भारी समस्या उत्पन्न होगी| चेम्बर ने पत्र में सुझाव दिया हैै कि - म.प्र. भूमि विकास नियम-2012 के नियम 53 में विवाह पार्क (मैरिज गार्डन) में आने वाले आगंतुकों के आधार पर विवाह पार्क के क्षेत्रफल का निर्धारण किया जाना चाहिए-उदाहरणार्थ:- क्रमांक विवाह में आने वाले लोगों की संख्या भूखण्ड/भूमि क्षेत्र १. 500 व्यक्ति आगन्तुक मेर्रिज गार्डन 2500 वर्गमीटर २.500-800 व्यक्ति आगन्तुक मेर्रिज गार्डन300 वर्गमीटर ३. 800-1200 व्यक्ति आगंतुक मेर्रिज गार्डन 4000 वर्गमीटर ४.1200-1500 व्यक्ति आगंतुक मेर्रिज गार्डन 4500 वर्गमीटर ५.1500 से अधिक व्यक्ति आगंतुक मेर्रिज गार्डन 5000 वर्गमीटर चेम्बर ने पत्र के माध्यम से मांग की है कि म.प्र. भूमि विकास नियम 2012 के नियम-53 में उपरोक्तानुसार संशोधन यथाशीघ्र किया जाए ताकि नगर निगम ग्वालियर द्बारा विवाह पार्कों/स्थलों को सील्ड किए जाने की कार्यवाही को रोका जा सके एवं इस अव्यवहारिक नियम से उत्पन्न होने वाली कठिनाईयों का निराकरण हो सके|

कलेक्टर एवं जिला मूल्यांकन समिति अध्यक्ष एवं जिला पंजीयक को कलेक्टर गाइड लाइन पर भेजे सुझाव नवीन छह वार्डों में कलेक्टर गाइड लाइन में वृद्घि न की जाए : चेम्बर ऑफ कॉमर्स वर्ष 2018-19 की प्रस्तावित कलेक्टर गाइड लाइन पर मध्यप्रदेश चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्री द्बारा कलेक्टर एवं जिला मूल्यांकन समिति अध्यक्ष तथा जिला पंजीयक पर सुझाव प्रेषित किये गये हैं चेम्बर द्बारा कलेक्टर गाइडलाइन पर निम्नलिखित सकारात्मक सुझाव प्रेषित किये गये हैं:- * मुख्य मार्ग से 6 मीटर अंदर तक वाणिज्यिक दर से व उसके बाद रिहायशी दर से सम्पत्ति का मूल्यांकन किया जाए| यह व्यवस्था 3-4 साल पुरानी गाइडलाइन में की गई थी * प्रमुख बाजारों के गलियों में भी बड़ी संख्या में लोग रहते हैं व प्रॉपर्टी की खरीद-फरोख्त करते हैं जबकि खरीदी के वक्त कॉमर्शियल दर से ही सम्पत्ति का मूल्यांकन किया जाता है जो कि प्रमुख बाजार के पास जुड़ी गलियों में मकान-जायदाद मुख्य मार्ग से लगी होने के बाद भी कम कीमत पर मिलती हैं जबकि स्टाम्प ड्यूटी मुख्य बाजार अनुसार ही देनी होती है| इसके लिए प्रमुख बाजारों के साथ मोहल्ला या गली की कीमत अलग निर्धारित की जानी चाहिए * ग्वालियर शहर के प्रमुख बाजारों में प्रथम मंजिल पर व्यवसायिक गतिविधि का प्रचलन न के बराबर है जब तक कि उसे कॉम्पलेक्स के रूप में न बदला जाये चेम्बर ने मांग की है कि जो वाणिज्यिक कॉम्पलेक्स हैं, तब तो उनका वाणिज्यिक दर से मूल्यांकन किया जाए लेकिन अगर मुख्य बाजारों में मकानों का क्रय-विक्रय होता है, तो ऐसी स्थिति में प्रथम मंजिल पर रिहायशी दर से ही सम्पत्ति का मूल्यांकन कर, स्टाम्प ड्यूटी ली जाये * चूंकि मुख्य बाजारों में वर्तमान में ग्वालियर शहर के अंदर प्रथम मंजिल व ऊपर के भागों में कॉमर्शियल कॉम्पलेक्सों को छोड़कर गैर घरेलू उपयोग न के बराबर है, जबकि प्रथम मंजिल या उसके ऊपर के भाग या पीछे की तरफ के भाग का क्रय-विक्रय किया जाता है तो उस पर वाणिज्यिक दर से मूल्यांकन किया जाता है, जबकि यह मूल्यांकन वास्तविक उपयोग के विपरीत है| अत: मुख्य बाजारों में प्रथम मंजिल और उसके ऊपर एवं पीछे के भाग का यदि उपयोग घरेलू है तो उसका मूल्यांकन घरेलू दर से ही किया जाना चाहिए इसके लिए इन क्षेत्रों में घरेलू दरें निर्धारित की जाना चाहिए * वर्तमान में घरेलू निर्माण दर दस हजार रूपये प्रति वर्गमीटर है जो कि प्रचलित दरों से थोड़ी सी ही अधिक है लेकिन इसके विपरीत व्यवसायिक उपयोग के निर्माण की दर पच्चीस हजार रूपये प्रति वर्गमीटर निर्धारित कर रखी है जबकि वास्तविकता में उसके निर्माण में घरेलू उपयोग से कम लागत आती है| इसलिए किसी भी स्थिति में वाणिज्यिक निर्माण की दर घरेलू निर्माण से अधिक नहीं होना चाहिए यहां यह उल्लेखनीय है कि इंदौर महानगर में वाणिज्यिक निर्माण की दर तेरह हजार रूपये प्रति वर्गमीटर है * मल्टी स्टोरी एवं कॉम्पलेक्सों में जहां प्रकोष्ठ के माध्यम से रजिस्ट्रियां होती हैं| वर्तमान में केवल ग्वालियर शहर में प्रत्येक मंजिल पर भूमि का मूल्य अलग-अलग लिया जाता है जिससे फ्लेट/दुकान का मूल्यांकन अधिक हो जाता है| वहीं एक ही भूमि को बार-बार मूल्यांकन की दृष्टि से उपयोग किया जाता है जो कि न तो वैधानिक दृष्टि से और न ही व्यवहारिक दृष्टि से उचित है हमारी मांग है कि इंदौर जैसे महानगर और गुजरात जैसे राज्य का मॉडल ग्वालियर में भी लागू किया जाये, जिसमें भूमि के एरिये को उस पर बने हुए फ्लेट या दुकान में अनुपातिक रूप से विभाजित किया जाता है वहीं केन्द्र सरकार द्बारा आयकर अधिनियम में पूंजीगत लाभ की गणना में यही तरीका इस्तेमाल किया जाता है * जो नवीन छह वार्ड नगर निगम सीमा में शामिल किये गये हैं, उनमें न तो कोई विकास कार्य हुए हैं और न ही कोई प्रगति है ऐसी स्थिति में इस आधार पर कि वह शहर की सीमाओं में शामिल हो गए हैं और कलेक्टर गाइडलाइन में वृद्घि कर दी गई है जिसकी वजह से वहां पर भूमि का क्रय-विक्रय नहीं हो पा रहा है| कारण स्पष्ट है कि यदि खरीददार व बेचने वाले स्टाम्प ड्यूटी का लेखा-जोखा अपने खातों में करता है तो पूंजीगत लाभ की गणना सर्किल गाइडलाइन से मूल्यांकन किया जाता है| नवीन छह वार्डों में शामिल क्षेत्रों की गाइडलाइन का सूक्ष्मता से अध्ययन कर, इन्हें संशोधित किया जाये क्योंकि इन क्षेत्रों की दरों में वृद्घि करते वक्त किसी भी प्रकार का विचार-विमर्श नहीं किया गया * जिन रजिस्ट्रियों में विक्रेता के साथ सहमतिकर्ता भी होते हैं और सहमतिकर्ता अपनी सहमति देने के एवज में कोई पैसा नहीं लेता है| ऐसी स्थिति में उस पर कोई अतिरिक्त स्टाम्प ड्यूटी नहीं ली जाती है| वहीं यदि भवन/भूमि की कलेक्टर गाइडलाइन के कुल योग से ही सहमतिकर्ता को राशि दी जा रही है, शेष राशि विक्रेता को दी जा रही है तो ऐसी स्थिति में कोई अतिरिक्त शुल्क सहमतिकर्ता के ऊपर नहीं लगना चाहिए * विभाजन/संशोधन/प्रकोष्ठ/पूरक दस्तावेज में सभी प्रतियों में नक्शा अपलोड करने की व्यवस्था होना चाहिए वर्तमान सॉफ्टवेयर में इसकी व्यवस्था नहीं है चेम्बर ने मांग की है कि उक्त सुझावों को दृष्टिगत रखते हुए आगामी कलेक्टर गाइडलाइन में आवश्यक सुधार किये जाएं, जिससे कलेक्टर गाइडलाइन आदर्श गाइडलाइन बन सके

लक्ष्य पूर्ति हेतु नहीं होगी बिलिंग : श्री अक्षय खरे चेम्बर भवन में विद्युत समस्या समाधान शिविर आयोजित उपभोक्ताओं की शिकायतों का समाधान तत्परता के साथ किया जाएगा और लक्ष्य पूर्ति हेतु उपभोक्ताओं पर अनावश्यक बिलिंग नहीं की जाएगी| यह बात आज मध्यप्रदेश चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्री में आयोजित मासिक विद्युत समस्या समाधान शिविर में म.प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के महाप्रबंधक शहर वृत्त-श्री अक्षय खरे ने कही| शिविर में उपमहाप्रबंधक-उत्तर संभाग-श्री डी.के. तिवारी, उपमहाप्रबंधक-मध्य संभाग-श्री मनीष गौतम, उपमहाप्रबंधक-पूर्व संभाग-श्री अवधेश त्रिपाठी सहित बड़ी संख्या में व्यापारी एवं आमजन अपनी शिकायतों के साथ उपस्थित हुए| शिविर में विद्युत देयक में सुधार, मीटर रीडर द्बारा गलत रीडिंग लिए जाने, आंकलित खपत लगाए जाने, बिल ज्यादा आने, लोड कम किए जाने मीटर डिस्कनेक्ट करने के बाद भी बिल प्राप्त होने जैसी समस्याएं प्राप्त हुईं| शिविर का संचालन कर रहे मानसेवी सचिव-डॉ. प्रवीण अग्रवाल द्बारा समस्याओं को महाप्रबंधक, शहर वृत्त के समक्ष प्रस्तुत किया गया| महाप्रबंधक शहर वृत्त-श्री अक्षय खरे जी द्बारा जिन समस्याओं का समाधान तत्काल किया जा सकता था, उनका तत्काल व कुछ समस्याओं को अधीनस्थ अधिकारियों को अग्रेषित कर, शीघ्र निराकरण के निर्देश दिए| शिविर में एक उपभोक्ता द्बारा चालू माह का बिल प्रस्तुत किया गया जो स्याही की कमी के चलते बहुत ही हलका था इस पर तुरंत महाप्रबंधक-श्री खरे द्बारा सर्विस प्रोवाइडर कंपनी के अधिकृत प्रतिनिधि को मोबाइल लगाकर फटकार लगाते हुए कहा कि उपभोक्ताओं को स्पष्ट रूप से अंकित बिल दिए जाएं| यदि भविष्य में फिर ऐसा बिल दिखाई दिया तो आपके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी| शिविर में उपभोक्ताओं को सम्बोधित करते हुए महाप्रबंधक-श्री अक्षय खरे ने कहा कि वितरण कंपनी द्बारा लक्ष्य पूर्ति हेतु बिलिंग नहीं की जाएगी| विद्युत उपभोक्ताओं की समस्याओं का समाधान करना हमारा ध्येय है| हमारा प्रयास रहता है कि उपभोक्ता की समस्या का शीघ्रातिशीघ्र निराकरण हो

मासिक विधुत समस्या समाधान शिविर 11वर्ष बाद पुनःचेम्बर में प्रारम्भ प्रत्येक माह द्वितीय शुक्रवार को इस माह का शिविर 9 मार्च शुक्रवार आज 11से 1PM तक मौजूद रहेंगे विधुतमण्डल के सभी वरिष्ठ अधिकारी कृपया निर्धारित समय मे पधारे ओर लाभ उठाएं

#रंगोत्सवहोली हार्दिक शुभकामनाएं

खर्राटा आना होता है कई बार खतरनाक कैसे दूर की जा सकती है यह बीमारी चेम्बर ऑफ कॉमर्स के मुखपत्र अर्थवार्ता के फरवरी 2018 माह के अंक में प्रकाशित राजवैध ग्वालियर की धरोहर डॉ वेणीमाधव शास्त्री जी द्वारा बताए गए सुझाव हेल्थ टिप्स के रूप में

म प्र चैंबर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री, ग्वालियर के यशस्वी अध्यक्ष आदरणीय श्री Arvind Agarwal जी को FEDERATION BHOPAL द्वारा ग्वालियर संभाग के उपाध्यक्ष एवं SMART CITY ADVISARY FORUM , GWALIOR में सदस्य मनोनीत होने पर हार्दिक शुभकामनाएं

सेमिनार डायवर्सन टेक्स प्रशासन दे रहा है डायवर्सन टेक्स वसूली के नोटिस शहर भर में वसूली की कर रहा कार्यवाही जिला प्रशासन डायवर्सन नोटिस और वसूली कितनी वैधानिक? किस पर लगेगा डायवर्सन? आदि विषयों पर चर्चा रहेंगे विशेष रूप से उपस्तिथ माननीय श्री आर.डी. जैन जी (पूर्व महाधिवक्ता मप्र शासन) माननीय श्री के.एन. गुप्ता जी (वरिष्ठ अभिभाषक) माननीय श्री नवल गुप्ता जी (वरिष्ठ अभिभाषक) माननीय श्री प्रशांत शर्मा जी (अभिभाषक) करेंगे विस्तार से चर्चा मिलगे आपके सवालों के जबाब आज 24 फरवरी 2018 शनिवार सायँ 4.30 बजे श्रीमन्त माधवराव सिंधिया सभागार चेम्बर भवन कृपया अवश्य पधारें निवेदक मप्र चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री

#चेम्बरकासकारात्मकप्रयास चेम्बर के प्रयासों से श्री अच्छेलाल गुप्ता को मिली उनके यूको बैंक खाते से निकली राशि 11जुलाई 2017 को चैक क्लोनिंग करके निकाले गये थे 8,77,964 रूपये यूको बैंक शाखा छत्री बाजार, लश्कर, ग्वालियर के खाताधारक श्री अच्छेलाल गुप्ता के खाते से चैक क्लोनिंग करके निकाली गई राशि रूपये 8,77,964- चेम्बर के प्रयासों से उन्हें वापिस मिल गई है दिनांक 04.09.2017 को श्री अच्छेलाल जी गुप्ता ने चेम्बर में आवेदन देकर अपने साथ हुई धोखाधड़ी की शिकायत की थी इस प्रकरण को चेम्बर ने पूरी संजीदगी से लेते हुए महाप्रबंधक यूको बैंक-उपभोक्ता सेवा, शिकायत एवं कैश मैनेजमेंट, हैड ऑफिस कोलकाता, बैंकिंग लोकपाल, क्षेत्रीय महाप्रबंधक-रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया, केन्द्रीय वित्त मंत्री-श्री अरूण जेटली, सीबीआई निदेशक-नई दिल्ली, पुलिस महानिदेशक-मध्यप्रदेश पुलिस, पुलिस अधीक्षक-ग्वालियर को पत्राचार प्रारंभ किया गया एवं समय-समय पर प्राप्त भारतीय रिजर्व बैंक, बैंकिंग लोकपाल, यूको बैंक प्रधान कार्यालय कोलकाता से प्राप्त पत्रों के आधार पर अनवरत पत्राचार जारी रखा जिसके परिणामस्वरूप श्री अच्छेलाल जी गुप्ता को उनके खाते से चैक क्लोंनिग करके आहरित की गई राशि वापिस मिलने का मार्ग प्रशस्त हो सका चेम्बर द्बारा आज सायंकाल यूको बैंक प्रबंधन एवं श्री अच्छेलाल जी गुप्ता को चेम्बर भवन में आमंत्रित कर, राशि वापिस मिलने की औपचारिकताएं पूर्ण कराई गईं| औपचारिकताएं पूर्ण करने के कुछ समय बाद ही श्री अच्छेलाल गुप्ता के खाते में बैंक प्रबंधन द्बारा 8,77,964- रूपये की राशि वापिस जमा कर दी गई| श्री अच्छेलाल जी गुप्ता ने चेम्बर द्बारा की गई कार्यवाही पर प्रशंसा व्यक्त करते हुए कहा कि मैं चेम्बर का सदस्य नहीं हूं परंतु चेम्बर अध्यक्ष-श्री अरविन्द अग्रवाल के गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिये गये उद्बोधन जिसमें उन्होंने घोषणा की थी कि समस्त व्यापारियों के लिए चेम्बर के द्बार हमेशा खुले रहेंगे, चाहे वह चेम्बर के सदस्य हों अथवा नहीं| उनकी घोषणा मेरे प्रकरण में पूर्ण रूप से परिलक्षित होती है| मुझे अपनी राशि वापिस मिलने में जो सहयोग चेम्बर का प्राप्त हुआ है, उसके लिए मैं चेम्बर का सहृदय हार्दिक आभार व्यक्त करता हूं और आशा करता हूं कि चेम्बर इसी भांति हम व्यापारियों को सहयोग करता रहेगा

गतिमान एक्सप्रेस का संचालन ग्वालियर से किए जाने पर चेम्बर ऑफ कॉमर्स ने केन्द्रीय रेलमंत्री-श्री पीयूष जी गोयल एवं केन्द्रीय मंत्री-श्री नरेन्द्र सिंह जी तोमर के प्रति किया आभार व्यक्त जयपुर-आगरा फोर्ट शताब्दी एक्सप्रेस एवं आगरा-अहमदाबाद एक्सप्रेस को ग्वालियर तक बढ़ाए जाने की केन्द्रीय मंत्रीगणों से पुनः की माँग

*दीनारपुर अनाज मण्डी की घटना के दोषी अपराधियों को तत्काल गिरफ्तार किया जाए एवं मण्डी में पुलिस चौकी पर स्थाई सुरक्षा बल तैनात किया जाए ः चेम्बर ऑफ कॉमर्स* अपराधियों की अविलंब गिरफ्तारी की जाएगी एवं मण्डी में निरन्तर गश्त होगी ः एस. पी. चेम्बर के नेतृत्व में गल्ला व्यवसाईयों ने आज पुलिस अधीक्षक को सौंपा ज्ञापन ग्वालियर की सबसे बड़ी गल्ला मण्डी दीनारपुर मुरार में शनिवार, 17 फरवरी को गल्ला व्यवसाई के साथ हुई मारपीट की घटना के दोषी अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी एवं मण्डी में व्यवसाईयों की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की माँग करते हुए आज चेम्बर के नेतृत्व में दीनारपुर गल्ला मण्डी के व्यवसाईयों द्वारा एस. पी. ग्वालियर-डॉ. आशीष जी से भेंट कर, उन्हें ज्ञापन सौंपा गया । इस अवसर पर चेम्बर पदाधिकारियो ने पुलिस अधीक्षक से कहा कि दीनारपुर मण्डी के गल्ला व्यवसाईयों के अंदर इस कदर भय व्याप्त हो गया है कि उन्होंने जब तक पूर्ण सुरक्षा नहीं मिल जाती है, वह अपना व्यवसाय बंद रखने के लिए मजबूर हैं क्योंकि दीनारपुर मण्डी के गल्ला व्यवसाईयों ने हमें अवगत कराया है कि वह बहुत ही भयाक्रांत हैं और व्यापार नहीं कर पा रहे हैं । गत् दिवस व्यापार मण्डल के महामंत्री पर जानलेवा हमला किया गया, जो कि हार्ट के भी रोगी हैं । व्यवसाईयों ने बताया कि सभी व्यवसाई भयाक्रांत हैं और व्यापार करने की हिम्मत नहीं कर पा रहे हैं । इसलिए उन्होंने यह तय किया है कि जब तक उक्त मण्डी में पुख्ता एवं स्थाई सुरक्षा के इंतजाम पुलिस चौकी पर नहीं किए जाते हैं, वह अपना व्यापार नहीं कर सकेंगे । इसलिए यह आवश्यक है कि वहाँ स्थापित पुलिस चौकी पर स्थाई रूप से पुलिस बल पदस्थ किया जाए । पदाधिकारियो ने व्यपारियो की सुरक्षा की माँग करते हुए, पुलिस अधीक्षक से कहा कि गल्ला व्यवसाई जो कि प्रति वर्ष लगभग रु. 2.50 करोड़ का मण्डी शुल्क देते हैं । बावजूद इसके वह सुरक्षा सुविधाओं से महरूम है । अतएव दीनारपुर मण्डी के व्यवसाईयों को पुख्ता सुरक्षा उपलब्ध कराई जाए । साथ ही, शनिवार की घटना के दोषी अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी सुनिश्‍चित की जाए, जिससे कि दीनारपुर मण्डी के गल्ला व्यवसाई बगैर किसी भय के अपना व्यवसाय कर सकें । साथ ही, पदाधिकारियों द्वारा निम्नानुसार एक ज्ञापन पुलिस अधीक्षक महोदय को प्रस्तुत किया, जिसके बिन्दु निम्नानुसार हैं ः- 1. घटना के दोषी, कल्लू तोमर एवं उसके साथ जो 15-20 लोग थे, उनकी तत्काल गिरफ्तारी की जाए । 2. दीनारपुर गल्ला मण्डी में स्थित पुलिस चौकी पर पुलिस बल पदस्थ किया जाए । 3. डायल 100 सुबह 10.30 बजे से लेकर रात्रि 8.00 बजे तक सिमको तिराहे पर खड़ी हो और वह लगातार इस अवधि में मण्डी में गश्त करें । 4. मण्डी में लगातार चोरी की घटनाएँ भी होती है, जो इन्हीं लोगों द्वारा किए जाने की संभावना है, उसका भी पता लगाया जाए । 5. व्यवसाईयों को आत्मरक्षार्थ हथियार के लाइसेंस दिए जाएँ । * जिला प्रशासन एवं म. प्र. शासन से माँग है कि ः- 1. अपराधियों को संरक्षण देने वाले सदस्यों को मण्डी सदस्य के पद से हटाया जाए । 2. दाने वाले बाबा की रोड जो कि मण्डी की बाउण्ड्री से मिलती है, उस सड़क से मण्डी का आवागमन सुनिश्‍चित किया जाए । 3. दीनारपुर मण्डी की बाउण्ड्रीबाल अपूर्ण है अथवा असामाजिक तत्वों द्वारा तोड़ दी गई है, जिससे आए दिन चोरी की घटनाएँ होती हैं, उसे शीघ्र बनवाया जाए । 4. दीनारपुर मण्डी को ग्वालियर की मुख्य मण्डी घोषित किया जाए । पुलिस अधीक्षक-डॉ. आशीष जी ने प्रतिनिधि मण्डल से चर्चा करते हुए आश्‍वासन दिया कि घटना का मुख्य आरोपी सहित उनके साथ मौजूद सभी अपराधियों की तत्काल गिरफ्तारी की जाएगी । साथ ही, दीनारपुर गल्ला मण्डी में निरन्तर गश्त का इंतजाम किया जाएगा । गल्ला व्यवसाईयों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा । एस. पी., डॉ. आशीष जी से चर्चा के उपरान्त गल्ला व्यवसाईयों द्वारा एसपी ऑफिस के हॉल में ही बैठक कर, निर्णय लिया गया कि जब तक सुरक्षा का स्थाई हल नहीं हो जाता है, वह अपना व्यवसाय करने में असमर्थ है और वह अपना कारोबार बंद रखेंगे । ज्ञापन व चर्चा करने वालों में चेम्बर के उपाध्यक्ष-श्री सुरेश बंसल, मानसेवी सचिव-डॉ. प्रवीण अग्रवाल, मानसेवी संयुक्त सचिव-श्री जगदीश मित्तल एवं कोषाध्यक्ष-श्री गोकुल बंसल ग्वालियर कृषि उपज मण्डी कमेटी के सदस्य- श्री अजय सिंह, श्री व्यापार मण्डल, मुरार के अध्यक्ष-रूपेश गोयल, संयुक्त अध्यक्ष-योगेश अग्रवाल, स्वागताध्यक्ष-बबलू उपाध्याय, महामंत्री-अवधेश दीक्षित, कोषाध्यक्ष-रिन्कू जैन, उपाध्यक्ष-हेम जैन,उपस्तिथ थे

Contact us.

Please provide All the Mandatory Details !!
Successfully Saved Your Response !!
 

Phone .

+91-7512382917
+91-7512632916
+91-7512371691

Address .

Madhya Pradesh Chamber of Commerce & Industries , Chamber Bhawan , SDM Road, Gwalior (MP)

E-mail .

info@mpcci.com
pro@mpcci.com